राहुल गाँधी देश के बहुत बड़े घराने का शरीफ लौंडा  है , वो परिवार जिसके पास इतना पैसा है कि उसका लौंडा ना भी कमाये तब भी 7 पुश्तों तक शान  भरी जिन्दगी जी सकते है…यानी इतना पैसा जितना आप अभी तक नहीं सोच पाए ..समझ गये के नहीं..

लेकिन भाई साहब आज आलम यह है, कि किसी भी पढ़े लिखे आदमी के सामने अगर राहुल गाँधी का नाम ले दिया, तो पता नहीं एक अलग ही मुस्कान देखने को मिलती है .जैसे आपके चेहरे पर है बस ठीक वैसी ही…

मैंने तो भैया जबसे होश संभाला है, अब आप पूछेंगे मैं कौन ? अरे भाई जो लिख रहा हूँ..नाम छोड़िये उसमे क्या रक्खा है…आगे बढ़ते हैं…मतलब ये कि कभी राहुल गाँधी के बारे में किसी को कसीदे कसते नहीं देखा…

देश के किस विपक्षी नेता ने राहुल के बारे में क्या क्या नहीं बोला , और कई बार तो खुद कुछ कांग्रेस पार्टी वालों ने तक गलती से मिस्टेक कर दी…ये लाइन चुराई हुई है..ही ही ही

इसका मतलब ये कि बहुत पहले से मतलब जबसे आईपीएल शुरू हुआ है न तब  से और शायद उससे पहले से भी राहुल गाँधी के बारे में लोग कुछ भी बोल देते है…सुना ही होगा आपने अब हम क्या बताये..

खैर छोड़िये मुद्दे से भटको मत भाई …टाइटल पर आते हैं…सोचिये के आप एक बहुत पैसे वाले घर से हो और राजनीती में हो ..लेकिन आये दिन लोग आपके बारे में दकियानूसी करतें फिरते हों..तो आप क्या करेंगे उसे किसी न किसी टाइप से चुप करने कि कोशिश करेंगे है कि नहीं..और वो फिर भी चुप न हो तो …बहुत ही गुस्सा आएगा या तो आप मर जायेंगे या उसे मार देंगे…लेकिन राहुल गाँधी ने ऐसा कुछ भी नहीं किया..

मुझे लगता है कि राहुल गाँधी के भीतर एक अजीब सी शक्ति है या बोले की सहन शक्ति है…

तो बात ये है कि हमारे युवाओं को उनसे कुछ सीखना चाहिए…जो किसी भी छोटी सी बात पर कुछ भी कर गुजरते है ..मतलब प्यार में धोखा और आत्महत्या टाइप की हरकतें तो ना ही करें…

एक आदमी जिसका नाम राहुल है वो दुनिया को बहुत कुछ सिखा रहा है और आप लोग बस उसे मज़ाक में लिए जा रहे है  ..ऐसे कौन करता है भाई….

Advertisements